PANKAJ TRIPATHI   TOP 8 DIALOGUE

'अगर नेता बनना है ना, तो गुंडे पालो, गुंडे बनोनहीं

हमारे पिताजी कहते हैं जो खीर नहीं खाया वो मनुष्य योनि में पैदा होने का पूरा फायदा नहीं उठाया

'यहां कबूतर भी एक पंख से उड़ता है..और दूसरे से अपना इज्ज़त बचाता है'

 तुम्हें मार नहीं रहे हैं, मुक्त कर रहे हैं...ये शरीर त्याग दो और फिर नई बॉडी में प्रवेश कटो, मेक अ फ्रेश स्टार्ट

जो लोग मेहनत का साथ नहीं छोड़ते ...किस्मत कभी उनका हाथ नहीं छोड़ती

अरे वाह ! ये तो संडास से लेके सुशीला तुक सब दिख रहा है।

'आप जिस शहर में नौकर बनकर आए हैं, हम मालिक हैं उस शहट के